Sensex क्या है BSE Sensex हिंदी में

क्या आप जानते है सेंसेक्स क्या है (What is Sensex in Hindi), यदि नहीं जानते है, तो आज का हमारा पोस्ट सेंसेक्स के बारे में है, हम बहुत वर टीवी में या न्यूज़ पेपर में सेंसेक्स शब्द पढने को मिलता है, यदि आप रोजाना न्यूज़ पढ़ने है तो उसमे आपको Sensex के बारे में बड़ी बड़ी हैडिंग दी गई होती है |

अक्सर हमें अख़बार या न्यूज़ में ये सुनने को मिल जाता है, की आज सेंसेक्स का रेट बढ़ गया है, या सेंसेक्स का रेट निचे गिर गया है, तब हम यही सोचते है आखिर Sensex Kya Hota Hai.

तो चलिए हम सेंसेक्स के बारे में समझते है, उससे पहले यदि आपको शेयर मार्केट व म्यूच्यूअल फण्ड के बारे में जानना है तो हमने पहले से ही पोस्ट को पब्लिश कर रखा है, यदि आप सेंसेक्स के बारे में जानना चाहते है तो उससे पहले आपको शेयर मार्केट के बारे में भी जानना जरुरी है |

सेंसेक्स क्या है (SENSEX in Hindi)

अधिकतम लोगों ने शेयर मार्केट व ट्रेंडिंग के बारे में जरुर सुना होगा, परन्तु अधिकतम लोगो के मन में SENSEX को लेकर विभिन्न प्रकार के सवाल होते है, जिसे वो जानना चाहते है, यदि आप शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करना चाहते है तो उससे पहले SENSEX के बारे में जानना बहुत ही जरुरी है |

तो इसलिए आज के पोस्ट में हम सेंसेक्स के बारे में जानेंगे, और ये भी जानेंगे SENSEX में उतार चढ़ाव क्या होता है, SUN-SEX जो दीपक मोहनती द्वारा बनाया गया एक शब्द है, जिसे सेंसिटिव इंडेक्स (Sensitive or Index) को जोड़कर बनाया गया है |

सेंसेक्स भारत की सबसे पुरानी शेयर बजार Bomby-Sensex का Benchmark है, जिसकी शुरुआत 1986 में किया गया था | शेयर बाजार में सेंसेक्स का नाम इसलिए भी प्रचलित है क्योकि यह Stock Market Index है, सेंसेक्स स्टॉक मार्केट में कंपनियों के शेयर में होने वाली उतार चढ़ाव को दर्शाता है |

Bomby Sensex के अंतर्गत भारत की 30 प्रमुख कंपनियां आती है, इसलिए इसे कभी कभी BSE 30 भी कहा जाता है |

शेयर मार्केट: Share Market Kya Hai, स्टॉक मार्केट की पूरी जानकारी

 

SENSEX में उतार चढ़ाव क्या होता है 

यदि आप इसको लेकर परेशान है तो SENSEX UP or Down को समझाना सरल है, जैसे की मैंने आपको बताया सेंसेक्स में भारत के 30 प्रमुख कंपनियां लिस्टेड है, और इन्ही कंपनियों के शेयर में उतार चढ़ाव को सेंसेक्स में उतार चढ़ाव कहा जाता है |

मानलीजिये कंपनी में हुए किसी नुकसान या अन्य कारणों से कंपनी की वैल्यू घट रही है तो सेंसेक्स निचे गिरने लगता है, अगर वही किसी कारण से कंपनी की वैल्यू अचानक से बढ़ने लगती है तो सेंसेक्स भी बढ़ जाता है, इसी को हम सेंसेक्स में उतर व चढ़ाव कहते है |

इसको हम और भी सरल भाषा में समझे तो SENSEX एक सुचनांक है, जोBombay Stock Exchange की प्रमुख 30 कंपनियों के परफॉरमेंस की रिपोर्ट को दिखता है, Bombay Stock Exchange में 5,000 से भी अधिक कंपनियां लिस्टेड है |

Sensex Kya Hai hindi
Sensex Kya Hai hindi

कंपनियों की शेयर बढ़ने घटने के कारण 

बहुतों को ये समझ में नहीं आता है, आखिर कंपनियों की शेयर में अप और डाउन क्यों होता है तो किसी कंपनी के शेयर डाउन होने या बढ़ने के कई कारण हो सकते है, जैसे कोई कंपनी मार्केट में नया प्रोजेक्ट लांच कर रही है तो उस कंपनी की शेयर बढ़ने लगती है क्योकि कंपनी के शेयर में इन्वेस्टरों की संख्या बढ़ने लगती है |

यदि किसी कारण कंपनी घाटे में चली जाती है, तब उसकी शेयर में भारी गिरावट देखने को मिलती है, क्योकि इनवेस्टर्स कंपनी को छोड़ने लगते हैं जिससे कंपनी के शेयर के ऊपर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है, और कंपनी की शेयर नीच आने लगती है |

निफ्टी और सेंसेक्स में क्या अंतर है? (Difference between sensex and nifty)

इन दोनों में ज्यादा कुछ अंतर तो नहीं दोनों ही शेयर अलग अलग शेयर बाजार के सूचकांक है, जो की शेयर बाजार में होनी वाली अप और डाउन को दर्शाने के लिए लिए किया जाता है | दोनों एक विधि से गणना करते है, परन्तु इन दोनों में कुछ असमानताए है, जिसके बारे में हम जान लेते  है |

  • सेंसेक्स को 1986 में बनाया गया था, तो वही Nifty को 1994 में लाया गया था,
  • सेंसेक्स बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज का सूचकांक है तो वही निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (National Stock Exchange Index)का सूचकांक है
  • BSE Sensex में कुल 30 बड़ी कंपनियां लिस्टेड है तो वही नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में कुल 50 बड़ी कंपनियां लिस्टेड है |
  • Sensex की Value 100 है तो Nifty की Base Value 1000 है
  • तो निफ्टी और सेंसेक्स भारतीय शेयर बाजार के 2 ताकत वर स्टॉक मार्केट इंडेक्स है, जो भारतीय शेयर बाजार की ताकत दर्शाते है |

SUNSEX प्रमुख 30 कंपनियों की लिस्ट (Sunsex 30 Companies List 2021)

यही वो 30 कंपनियां है जिसके प्रदर्शन को SUNSEX के द्वारा मापा जाता है | इन सभी कंपनियों की आर्थिक स्तिथि बहुत ही मजबूत होती है, इन कंपनियों की प्रमुख बात यह है इनकी शेयर हमेशा बनी रहती है |

ऐसी कंपनियों को Blue Chip Companies कहा जाता है | और इन कंपनियों के शेयर में पैसे को इन्वेस्ट करना सबसे सुरक्षित माना जाता है |

यदि आप शेयर मार्केट में कम जोखिम उठाना चाहते है तो इन कंपनियों के शेयर में इन्वेस्ट कर सकते है

कंपनी वेटऐज 
1.Reliance Industries Ltd.एनर्जी 
2.Tata Consultancy Services Ltd.टेक्नोलॉजी 
3.HDFC Bank Ltd.फाइनेंसियल 
4.Infosys Ltd.टेक्नोलॉजी 
5.Hindustan Unilever Ltd.एफएमसीजी 
6.Housing Development Finance Corporation Ltd.फाइनेंसियल 
7.ICICI Bank Ltd.फाइनेंसियल
8.Kotak Mahindra Bank Ltd.फाइनेंसियल
9.State Bank Of Indiaफाइनेंसियल
10.Bajaj Finance Ltd.फाइनेंसियल
11.Bharti Airtel Ltd.कम्युनिकेशन 
12.ITC Ltd.एफएमसीजी 
13.HCL Technologies Ltd.टेक्नोलॉजी 
14.Axis Bank Ltd.फाइनेंसियल 
15.Asian Paints Ltd.केमिकल्स 
16.Maruti Suzuki India Ltd.ऑटोमोबाइल 
17.Larsen & Toubro Ltd.कंस्ट्रक्शन 
18.Ultratech Cement Ltd.कंस्ट्रक्शन 
19.Nestle India Ltd.एफएमसीजी 
20.Bajaj Finserv Ltd.फाइनेंसियल 
21.Sun Pharmaceutical Industries Ltd.हेल्थकेयर 
22.Oil & Natural Gas Corporation Ltd.एनर्जी 
23Titan Company Ltd.Cons Durable कंस ड्यूरेबेल   
24.Power Grid Corporation Of India Ltd.एनर्जी 
25.Bajaj Auto Ltd.ऑटोमोबाइल 
26.NTPC Ltd.एनर्जी 
27.Mahindra & Mahindra Ltd.ऑटोमोबाइल 
28.Tech Mahindra Ltd.टेक्नोलॉजी 
29.IndusInd Bank Ltd.फाइनेंसियल 
30.Dr. Reddys Laboratories Ltd.हेल्थकेयर 

सेंसेक्स बढ़ने के फायदे

तो चलिए जानते है, जब सेंसेक्स बढ़ता है तो कैसे इन्वेस्टर्स को फायेदा पहुचता है, Sensex Increase होने के क्या क्या फयेदें है | तो चलिए हम इसको एक उदहारण से समझते है, जब सूचीबद्ध कंपनियों की प्रॉफिट होता है, इसका मतलब सेंसेक्स का बढ़ना |

जब कंपनी को प्रॉफिट बढ़ता है तब जितनें भी लोग उस कंपनी के शेयर को ख़रीदे होते है, उन्हें अच्छा रिटर्न मिलता है, साथ ही कंपनी के शेयर की मूल्य भी बढ़ जाता है, और इन्वेस्टर्स की संख्या बढ़ जाती है, इससे कंपनी के पास अधिक मात्रा में पूंजी जमा हो जाती है, जिससे कंपनी में विकास ज्यादा होता है, और इससे लोगो को रोजगार भी मिलता है |

यदि SENSEX में Increment हो रहा है तो इससे विदेशी निवेशकों की संख्या बढ़ती है, और भारतीय मुद्रा और भी ज्यादा मजबूत होने लगता है, जिसके कारण कई वस्तुओं के दामों में भारी गिरावट देखने को मिलती है |

सेंसेक्स गणना कैसे होता है (How Sensex Calculates)

यदि आप Sensex Calculation को समझना चाहते है, तो वह बहुत ही सरल है इसको हम एक उदारहण से समझेंगे, आपको सिर्फ ध्यान देना है | 

मानलीजिये मुंबई स्टॉक एक्सचेंज BSE में सिर्फ दो कंपनियां रजिस्टर है, पहला कंपनी का नाम “अल्फ़ा” और दूसरी कंपनी का नाम है “बिटा” है |

अब अल्फ़ा कंपनी के पास 5,000 हजार शेयर है और एक शेयर का मूल्य 200 रु है, वैसे ही दूसरी कंपनी बीटा के पास 10,000 हजार शेयर है और एक शेयर का मूल्य 250 रु है | अब इन दोनों के कारण BSE की कुल बाजार कीमत (रु. 5000xx 200)+(रु. 10000 x 250)= रु| 3,500,000 हो जाएगी |

मानलीजिए कि अगले दिन अल्फ़ा  कंपनी के शेयर की कीमत 25% बढ़कर 250 तक चढ़ती है, और बीटा कंपनी के शेयर की कीमत 10% कम होकर 225 हो जाती है. अब इन नए शेयर मूल्यों पर BSE का कुल मार्किट पूंजीकरण होगा (रु. 250 x 5000) +(रु.250 x 10,000) = रु| 3750000 लाख रुपये हो जाएगी

आज हमलोगों ने सेंसेक्स के बारे में सिखा 

यदि शेयर बाजार में हिस्सा लेना चाहते है, तो मेरा सलाह है आपको शेयर मार्केट से सम्बंधित सभी जानकारी होनी चाहिए, जैसे शेयर मार्केट क्या है, और कैसे हम शेयर मार्केट में निवेस कर सकते है, इसको समझने के लिए SENSEX Kya Hai. उसकी पूरी जानकारी होनी चाहिए |

आशा है सेंसेक्स के बारे में पूरी जानकारी मिल चुकी होगी, यदि आप किसी भी प्रकार की सवाल पूछना चाहते है तो उसके लिए निचे कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है, Stock Market के बारे में और भी ज्यादा सीखने के लिए हमारे ब्लॉग से जुड़ सकते है, यहाँ आपको Finance से सम्बंधित बहुत कुछ सीखने मलेगा |

Mutual Fund क्या हैं, क्या हमें निवेश करना चाहिए

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज क्या है?

BSE Stock Exchange भारत और एशिया की सबसे पुराना स्टॉक एक्सचेंज है और इस एक्सचेंज पहुच कुल 417 शहरों तक है मुंबई स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 1875 ई में हुई थी 

सेंसेक्स का आधारवर्ष क्या है?

SUNSEX का आधारवर्ष 1978 से 79 है 

Nifty क्या है?

निफ्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) की सूचकांक है 

भारत में कुल कितने स्टॉक एक्सचेंज है?

सेबी द्वारा स्वीकृत भारत में कुल 23 स्टॉक एक्सचेंज है 

Leave a Comment